तितलियाँ


मचलती हैं मन में हज़ारों तितलियाँ 
वहम ही सही तुमने मुझसे इश्क़ तो किया

0 comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
 

गर्द-ए-रहगुज़र © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates