एक अधूरा अहसास ....


उन बारिश की बूंदों से पूछा मैंने
कहाँ गयी उनकी ताजगी वो दिल लुभाती सादगी
मासूम सा चेहरा नज़रों से होती संजीदगी बयां
सादगी की मूरत कहूं या सूरत मैं भोलापन बेपनाह
एक दिन यूँ ही जब मिले एक अपनापन सा महसूस किया
पर बारिश मैं भीग के भी दिल था मेरा सूखा हुआ
ऐसा लगा जैसे अकेले मुसाफिर को एक पड़ाव मिल गया
थक के कहीं रुक जाएँ ये कदम बीच राह कभी
इन क़दमों को उनके हौसले का सहारा मिल गया
सोचा था की साथ चलेंगे वो हमारे रास्ते यूँ
की हमदर्द बनते बनते जिंदगी भर का दर्द दे जायेंगे
जाने क्या तकाजा उनका की मेरी तलाश को वो अपनी मजिल बनायेंगे
हम दोस्ती की इबादत करेंगे वो खुद को इश्क का रोग लगायेंगे
दिल से बना हर एक रिश्ता इश्काना हो ये जरूरी नहीं
मोहब्बत हो ही जाए दोस्त से ये दोस्ती का पैमाना नहीं
इश्क हो गया था उन्हें हमसे इस मैं हमारी क्या खता थी
दोस्ताना वफ़ा की खातिर हम उन्हें अपनी जान भी दे देते
पर वफ़ा के बदले उनकी हमसे मोहब्बत बेवजह थी
जो ये दिल दे सका वादा मुकर गए प्यार के इजहार से
वो था आखिरी दिन जब जुदा हुए थे हम बीच राह से
मुड कर भी देखा कभी एक बार हमने उस राह पे
जिंदगी जीने का वो जज्बा और दिल मैं तूफ़ान हुआ करता था
आज रह गया है बस दहकते अंगारों का ढेर और सैलाब नफरत का
काश उन बारिश की बूंदों ने दिखा दिया होता असली रूप तेरा
रह जाती ये खलिश इस कदर मेरे दिल--जहन मैं
काश आके कह दे वो की ये सिर्फ एक बुरा ख्वाब है
हाकीकट मैं आज तक कुछ भी ऐसा हुआ नहीं
दुआ है मेरी आज रब से सिर्फ यही मेरे दोस्त
की तू कभी बाने मिसाल बेवफाई के इलज़ाम की
आना कभी लौट के उन राहों पे जहाँ से गुजरे थे हम कभी
आज चर्चा है उन राहों पे तेरे दोस्ती मैं किये गुनाह की

1 comments:

Ranjana said...

Very true RITZZ!!!!
LOVE and FRIENDSHIP are though similar yet very opposite to each other..
Blend of love and friendhip is rare...and if it happens..It can be the BEST RELATIONSHIP.
I wish Aman(my would be hubby :)) is my best friend forever.

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
 

गर्द-ए-रहगुज़र © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates