की मेरी चाहत में भी खुदाई है ...


इंतज़ार किया है तेरा सदियों तक
तू आया भी तो झलक दिखाने
मुझ पर सितम ढाने या आजमाने
मुझपे सितम न ढा ज़ालिम
की सदियाँ बितायीं है तेरी राह में
आजमाले मुझे चाहे जितना
की मेरी चाहत में भी खुदाई है

0 comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
 

गर्द-ए-रहगुज़र © 2010

Blogger Templates by Splashy Templates