शोहरत के परिंदे






हम अक्सर शोहरत की चाह में जिंदगी के छोटे छोटे पलों में छुपी खुशियों को नज़रअंदाज़ कर दिया करते हैं , आगे बढ़ने की चाहत में कुछ ऐसा पीछे छूटता है जिसे हम चाह कर भी वापस नहीं पा सकते । 

Comments

  1. I really appreciate your professional approach. These are pieces of very useful information that will be of great use for me in future.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

यही मेरी श्रधांजलि ...

मेरी मंजिल की राह ..

कुछ अधूरे सपने …..