डोर मेरी तेरे हाँथ

डोर मेरी तेरे हाँथ में जो है
तु भी तो बंध गया मुझसे 

छूट न पायेगी तुझसे ये डोर 
कैसे करेगा खुद को दूर मुझसे 

नाचती हूँ मैं तेरी थिरकन पे 
मीरा तो नहीं पर मैं हूँ हीर तेरी 

इश्क़ के रोग ने किया बावला 
इसमें तेरा कोई कसूर नहीं 

आग का मतलब जानकर
अंगारो पे चलना मजबूरी मेरी 

Comments

Popular posts from this blog

यही मेरी श्रधांजलि ...

मेरी मंजिल की राह ..

कुछ अधूरे सपने …..